Friday, August 31, 2012

ये आँख कितनी अमीर है


अश्क बहकर भी कम नहीं होते
ये आँख कितनी अमीर है,
इन हवाओं को कुछ कहा भी नहीं, खुशबू फैल गयी
ये मैं नहीं, पागल समीर है.

दर्द कुतरता है मेरे अंतर को
कागज की नाव अब पुरानी है
बह गयी है बस्ती वज़ूद की इस बारिश में
बची है जो अब, कहानी है.

तस्वीर कल की उलझी-सी है, धुंधली है
दरख़्त खामोश है, रात गहरी है,
हुआ जो कल था वादा हौसले से
आज कोने में, वो भी चित्त पसरी है.

समेट लाता हूँ जीवन के बिखरे पन्नों को
उसी चादर में, जो आज मैली है
शब्द छोटे हैं, बात बड़ी है दुनिया की
खामोशी-सी, भावों की तरह, दूर तक फैली है.